टॉवरों में लाल रंग की बत्ती क्यों लगाते है

Towers Me Lal Rang Ki Batti Kyon Lagaya Jata Hai : मोबाइल टॉवरों में लाल रंग की बत्ती को एयरोप्लेन वार्निंग लाइट भी कहते है अक्सर देखा जाता है कि जहाँ पर खतरा होता है या दुर्घटना होने कि संभावना होती है वह लाल रंग का निशान या खतरा का निशान लगाया जाता है.

लाल रंग का तरंगदैर्ध्य सबसे अधिक होता है साथ ही इसका फैलाव भी कम होता है; जिससे दूर से इसको आसानी से देखा जा सकता है; इसलिए टॉवरों पर लाल रंग की लाइट लगाई जाती है.

राजस्व निरीक्षक कैसे बने?

आमतौर पर मोबाइल टॉवर की ऊंचाई 80 से 199 फ़ीट तक होती है इसलिए इसको विमान सुरक्षा के निगाह से लगाया जाता है; क्योकि पैसेंजर विमान 700 -800 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से उड़ता है साथ ही लड़ाकू विमान की बात करे तो उसकी रफ्तार 2500 किमी प्रति घंटा के आस पास होता है.

DA PA Kya Hai

हालाँकि विमान काफी ऊंचाई में उड़ता है लेकिन कभी कभी उसकी ऊंचाई कम हो जाता है जिससे दुर्घटना होने कि संभावना भी बढ़ जाती है.

क्या आप टॉप बेस्ट लाइक इट ब्लॉग पढ़ना चाहते है तो नीचे दिए गए डाउनलोड नाउ के बटन पर क्लिक करें.

ध्यान दें: डाउनलोड बटन को अनलॉक करने के लिए व्हाट्सएप पर शेयर कीजिए

Induas.com की लेटेस्ट ब्लॉग पोस्ट के लिए नीचे दिए हुए समुदाय से विभिन्न मीडिया के साथ जुड़ें:-

<<< Follow करें इंस्टाग्राम >>>


<<< ज्वाइन टेलीग्राम चैनल >>>


<<< Facebook पेज लाइक करें >>>

Leave a Comment