हाइट कैसे बढ़ाएं? जानिए कैसे विकिकोश

हाइट कैसे बढ़ाएं? जानिए कैसे विकिकोश

क्या आप भी कम ऊंचाई से जूझ रहें है और प्राकृतिक लंबाई विकिकोश कामयाब नुस्खे हाइट कैसे बढ़ाएं अपडेट पाना चाहते है तो इस पेज को पूरा अवलोकन करके अपने दिनचर्या में आज़माएं. सुंदरता को कई पैमानों में मापा जाता है और लंबाई उनमें से एक है. लड़का हो या लड़की, हर कोई लंबा कद चाहता है. भारत में महिलाओं की औसत ऊंचाई 152 सेमी और पुरुषों की 165 सेमी है. लड़कों की हाइट जहां 25 साल तक बढ़ सकती है वहीं लड़कियों की हाइट 21 साल तक बढ़ सकती है. इसके बाद हाइट ग्रोथ हार्मोन कम होने लगता है.

इस बार हमारे लेख का विषय यह भी है कि हाइट कैसे बढ़ाई जाए. अब सवाल आता है कि लंबाई कैसे बढ़ाई जाए? क्या ऐसा करने का कोई प्राकृतिक तरीका है, तो इसका उत्तर हां है. इस लेख के माध्यम से हम बताएंगे कि लंबा कैसे होना है (लंबा होने का तरीका) और इससे जुड़ी हर तरह की जानकारी देंगे, वहीं अगर किसी गंभीर बीमारी की वजह से हाइट नहीं बढ़ रही है तो ऐसे में डॉक्टर से चेकअप जरूर कराना चाहिए.

ऊंचाई को प्रभावित करने वाले कारक:-

  आप छोटे होंगे या बड़े यह दो मुख्य कारकों पर निर्भर करता है - आनुवंशिक और गैर-आनुवंशिक. 

आनुवंशिक : हमारी लंबाई कुछ हद तक जीन्स पर निर्भर करती है. अगर किसी के परिजनों का कद छोटा है, तो हो सकता है कि उनके बच्चों का कद भी छोटा हो. हालांकि, ऐसा हर केस में नहीं होता, लेकिन ऐसा होने की आशंका ज्यादा रहती है. हमें यह तो मानना ही होगा कि आनुवंशिक फैक्टर हमारे हाथ में नहीं होता. ऐसा पाया गया है कि कद में 60-70 प्रतिशत का अंतर आनुवंशिक ही होता है.

अनुमानित ऊंचाई को निम्नानुसार मापा जा सकता है:

आप अपने माता-पिता की लंबाई इंच या सेंटीमीटर में जोड़ते हैं.
अगर आप पुरुष हैं तो इसमें पांच इंच और अगर महिला हैं तो पांच इंच घटाएं.
अब संख्या को दो से भाग दें.
इसके बाद जो आंकड़ा आएगा वह आपकी अनुमानित ऊंचाई हो सकती है. इसका चार इंच कम या ज्यादा हो सकता है.

  गैर-आनुवंशिक: गैर-आनुवंशिक कारक कई प्रकार के हो सकते हैं, जो ऊंचाई की वृद्धि को रोकते हैं. 

भोजन में पौष्टिक तत्वों की कमी.
शारीरिक गतिविधियों से परहेज करना.
उठते, बैठते व चलते-फिरते समय सही पोश्चर पर ध्यान न देना.
बचपन में किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त होना.
किशोरावस्था में मानसिक रूप से अस्वस्थ होना.
हम कहां रह रहे हैं और वहां का वातावरण कैसा है, यह भी बढ़ते कद पर असर डाल सकता है.
थायरॉयड हार्मोंस व ग्रोथ हार्मोंस में कमी भी बढ़ते कद पर असर डाल सकती है.
कम उम्र में ही जिम जाकर वजन उठाने से भी हाइट रुक जाती है.

ध्यान दें: बेशक आनुवंशिक कारक को कोई भी नियंत्रित नहीं कर सकता है, लेकिन बच्चे को शुरू से ही संतुलित और अच्छी जीवनशैली देकर गैर-आनुवंशिक कारकों के प्रभाव को रोका जा सकता है.

अब आप पूछेंगे कि कम समय में हाइट कैसे बढ़ाएं तो आगे हम बता रहे हैं कि हाइट बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए.

हाइट बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके:-

खानपान: पौष्टिक और संतुलित आहार, स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार सबसे जरूरी है. हाइट बढ़ाने का आसान तरीका इससे हमारे शरीर को सारे पोषक तत्व मिलते हैं. अगर आप अच्छी हाइट चाहते हैं तो जंक फूड से दूर रहें. इसके अलावा, कार्बोनेटेड पेय, वसायुक्त खाद्य पदार्थ और अत्यधिक मीठी चीजों से बचें, इन सबका हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है. संतुलित और स्वस्थ विकास के लिए हमें विटामिन और खनिज युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए. यहां हम कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें खाकर अच्छी सेहत और लंबी हाइट हासिल की जा सकती है.

व्यायाम और खेल:-

लम्बे होने का एक तरीका है खुद को शारीरिक रूप से फिट रखना. यह लंबाई बढ़ाने का एक प्राकृतिक तरीका है. इसके लिए आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए. जब आप ऐसी शारीरिक गतिविधियों में लिप्त होते हैं, तो शरीर को अधिक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है. यह हाइट बढ़ाने में मददगार हार्मोंस को सक्रिय करता है.

एरोबिक्स, टेनिस, क्रिकेट, फुटबॉल और बास्केटबॉल जैसे खेल खेलने से शरीर सक्रिय होता है और अच्छी तरह विकसित होता है. एक स्पेनिश अध्ययन के अनुसार, शारीरिक गतिविधि और हड्डियों के विकास के बीच सीधा संबंध है. जब हम ऐसे खेल खेलते हैं तो हमारी मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं, जिससे हाइट बढ़ाने में मदद मिलती है. इसलिए व्यायाम और खेलकूद को हाइट बढ़ाने का बेहतर तरीका माना जा सकता है.

ऐसा माना जाता है कि तैराकी से बेहतर कोई शारीरिक गतिविधि नहीं है. तैरते समय शरीर के सभी अंग काम करते हैं और मांसपेशियां मजबूत होती हैं. इसलिए अगर बच्चे को शुरू से ही तैरना सिखाना शुरू कर दिया जाए तो हाइट का अच्छा असर हो सकता है.

लंबाई बढ़ाने के लिए तरह-तरह की स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज आजमाई जा सकती हैं. अगर आप इस एक्सरसाइज को दिन में करीब 15 मिनट तक करते हैं तो यह काफी है.

इनके अलावा हाइट बढ़ाने के लिए हैंगिंग सबसे कारगर तरीका है, हालाँकि शुरुआत में थोड़ी परेशानी हो सकती है, लेकिन दैनिक अभ्यास से यह करना आसान हो जाएगा, आप इसे लगभग 15 सेकंड से शुरू करें और धीरे-धीरे इसे पांच मिनट तक बढ़ाएं.

योग अभ्यास:-

भारतीय संस्कृति में योग साधना का महत्व माना गया है. ऐसा कहा जाता है कि योग के अभ्यास से किसी भी प्रकार की बीमारी या समस्या को ठीक किया जा सकता है. इसी तरह हाइट बढ़ाने के लिए भी योग का सहारा लिया जा सकता है. यह करना बहुत आसान है. हाइट बढ़ाने के लिए कुछ खास योगासन हैं, जो हाइट बढ़ाने वाले हार्मोन्स को एक्टिवेट करते हैं. त्रिकोणासन, भुजंगासन, सुखासन, वृक्षासन, नटराजासन, मार्जरी आसन और सूर्य नमस्कार करने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और शरीर की मुद्रा सही आकार में आती है.

खूब नींद लेना:-

शरीर के संपूर्ण विकास के लिए संतुलित आहार, योग और व्यायाम के साथ-साथ पर्याप्त नींद भी जरूरी है. ऐसा माना जाता है कि जब हम गहरी नींद में होते हैं तो उस समय हमारे शरीर में ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन प्राकृतिक रूप से बनता है. वहीं बच्चों को अच्छी हाइट पाने के लिए हर रात 8-11 घंटे की नींद लेना जरूरी माना जाता है. यहां एक बात ध्यान देने वाली है कि बच्चे हों या बड़े, सभी को शांत वातावरण में सोना चाहिए, ताकि उन्हें पर्याप्त नींद मिल सके. इससे शरीर को पूरा आराम मिलता है और अच्छे टिश्यू का निर्माण होता है. इसलिए, नींद लम्बा करने का एक शानदार तरीका है. यहां हम बेहतर नींद के लिए कुछ जरूरी टिप्स बता रहे हैं:-

  • अगर आप सोने से पहले गुनगुने पानी से नहाते हैं तो इससे अच्छी नींद आ सकती है.
  • आप रात को सोने से पहले एक कप कैमोमाइल चाय पी सकते हैं. इसे पीने से आपको गहरी नींद आने में समय नहीं लगेगा.

सही पोश्चर:-

लंबा होने के माप में शरीर की मुद्रा भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. इसलिए बच्चों को शुरू से ही सही मुद्रा में उठना, बैठना और चलना सिखाया जाना चाहिए. सिर्फ बच्चे ही नहीं, सभी का पोस्चर सही होना चाहिए. इससे आप न सिर्फ लंबी दिखेंगी, बल्कि खूबसूरत और कॉन्फिडेंट भी नजर आएंगी. यहां हम बता रहे हैं कि कैसे आप अपने पोस्चर को सही रख सकते हैं.

  • हमेशा कुर्सी पर सीधे बैठें, कंधे सीधे होने चाहिए और ठुड्डी ऊपर की ओर होनी चाहिए.
  • कभी भी झुक कर नहीं चलना चाहिए, कमर हमेशा सीधी रहनी चाहिए। अगर रीढ़ सीधी हो और कमर मजबूत हो तो लंबाई बढ़ाना आसान होता है.
  • कोशिश करें कि अपनी गर्दन और सिर को एक तरफ न झुकाएं और न ही झुकाएं.
  • हमेशा अच्छी क्वालिटी के तकिये और गद्दे का इस्तेमाल करें, ताकि रीढ़ की हड्डी का आकार खराब न हो.
  • इस बात का ध्यान रखें कि चलते समय आपके कंधे स्थिर स्थिति में न रहें. साथ ही कंधों को झुकाना या एक तरफ मोड़ना नहीं चाहिए.

क्या आप Top Best People Like It Blog पढ़ना चाहते है तो नीचे दिए गए डाउनलोड के बटन पर क्लिक करें.

ध्यान दें: डाउनलोड बटन को अनलॉक करने के लिए व्हाट्सएप पर शेयर कीजिए

Leave a Comment