SDM कैसे बने | एसडीएम क्या होता है

SDM कैसे बने | एसडीएम क्या होता है

सरकारी नौकरी टॉप ऑनलाइन फार्म भर्ती की चाहत रखने वाले बेरोजगार अभ्यर्थी SDM कैसे बने की जानकारी खोज रहें है तो यहां क्लिक करें, एसडीएम क्या होता है, एसडीएम की तैयारी कैसे करें और अन्य एसडीएम सैलरी विकिकोश विवरण पढ़ें.

एसडीएम बनने के लिए राज्य लोक सेवा आयोग के अंतर्गत उप मंडल मजिस्ट्रेट पद हेतु एग्जाम देना होता है. एसडीएम के कार्य Sub Divisional Magistrate का काम यू तो बहुत सारा होता है जिनमे भूस्खलन, नवीकरण करवाना, भूमि का लेखा-जोखा और लाइसेंस अन्य शीतलहरों आदि प्रमुख है.

SDM कैसे बने की जानकारी

कैसे बने उप-प्रभागीय न्यायाधीश
डिटेल्स How to Become SDM in Hindi
चेक करें एसडीएम की पूरी जानकारी

⇒ स्टाइलिश स्टार अल्लू अर्जुन बायोग्राफी

⇒ भारतीय संविधान के बारे में महत्वपूर्ण तथ्यों

⇒ डिप्टी कलेक्टर क्या होता है 

एसडीएम क्या होता है की जानकारी

क्या होता है Sub Divisional Magistrate
डिटेल्स What is SDM Hindi Details
अपडेट एसडीएम का फुल फॉर्म

⇒ महेश बाबू बायोग्राफी

⇒ जानें सब्र का फल मीठा होता है अर्थ एक कहानी

⇒ ऑनलाइन मोबाइल से घर बैठे पैसे कमाए

एसडीएम क्या होता है:-

एसडीएम जिसे इंग्लिश में Sub Divisional Magistrate और हिंदी में अनुमंडलाधिकारी तथा कई अन्य नामो से जाना जाता है आखिर क्या है SDM इस पोस्ट में हम जानते है.

1. एसडीएम जिले का बेहद अहम एक राज्य स्तरीय कर्मचारी होता है.

2. एसडीएम जिसके बहुत सारे काम होते है.

3. एसडीएम मुख्य रूप से अपने जिले के प्रशासन, विकास, न्यायपालिका और इसके रखरखाव के लिए जिम्मेदार है.

4. जो कभी-कभी एक जिला उपखंड के मुख्य अधिकारी को दिया जाता है.

5. यह कर निरक्षक, कलेक्टर मजिस्ट्रेट द्वारा सशक्त है.

SDM कैसे बने:-

उप-प्रभागीय न्यायाधीश बनने के लिए मुख्य रूप से दो तरह के तरीके है जिसमें आप पहला यूपीएससी परीक्षा के माध्यम से एसडीएम अधिकारी बन सकते हैं और दूसरा आप पीसीएस परीक्षा जैसे राज्य स्तरीय सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से भी एसडीएम ऑफिसर बन पाएंगे.

सरकारी ऑफिसर बनने के लिए आपको जरूरी है भर्ती प्रक्रिया के बारे में ध्यान देना. इसके लिए आपको नीचे दिए गए मुक्त विकीकोश को रीड कर लें.

भर्ती प्रक्रिया के बारे में ध्यान कैसे दें:-

  • 1. सरकारी ऑफिसर पद में जो भी बनना चाहते है उसके नोटिफिकेशन सूचना खोंजें.
  • 2. तैयारी के लिए टाइम टेबल बनाये.
  • 3. परीक्षा के लिए नोट्स बनाए.
  • 4. सभी विषयों के बेसिक सिद्धांतों पर मजबूत पकड़ बनाए.

एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए योग्यता:-

एसडीएम बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए उम्मीदवारों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 55% अंको के साथ किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए तथा आरक्षित श्रेणियों के लिए 5% अंक छुट दी गई है.

एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा:-

एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए उम्र सीमा वर्ग सामान्य के लिए न्यूनतम 21 वर्ष और अधिकतम 40 वर्ष, ओबीसी वर्ग के लिए न्यूनतम 21 व अधिकतम 45 वर्ष, SC/ST वर्ग के लिए न्यूनतम 21 एवं 45 वर्ष तथा PWD के लिए न्यूनतम 21 वर्ष व अधिकतम 55 वर्ष होना चाहिए.

एसडीएम की तैयारी कैसे करें:-

एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए तैयारी कैसे करें विकीकोश के जरिए निःशुल्क हिंदी में जानकारी पाना चाहते है तो इस पेज को पूरी अवलोकन करके नौकरी आज़माएं.

सबसे पहले आपको प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी उसके बाद ही आप मुख्य परीक्षा दे सकते है. इस परीक्षा को पास करने के बाद उम्मीदवार को साक्षात्कार के लिय बुलाया जाता है. फिर एसडीएम अधिकारी बन सकते हैं.

एसडीएम की सैलरी कितनी होती है:-

एसडीएम की सैलरी एसडीएम अधिकारी का वेतन ग्रेड पे के अनुसार, न्यूनतम वेतन ₹ 53100-67700 तथा अधिकतम ₹ 103314 रूपये प्रदान किया जाता है.

तमाम सवालों के जवाब यहां जानें:-

एसडीएम सरकारी जॉब भर्ती नोटिफिकेशन से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल के जवाब आप नीचे अवलोकन कर सकते हैं.

1. एसडीएम के और क्या-क्या नाम है?

≡ एसडीएम के अन्य प्रचलित नाम अनुमंडलाधिकारी, उप-प्रभागीय न्यायाधीश, Sub Divisional Magistrate हैं.

2. एसडीएम के कार्य?

≡ एसडीएम के कार्य Sub Divisional Magistrate का काम यू तो बहुत सारा होता है जिनमे भूस्खलन, नवीकरण करवाना, भूमि का लेखा-जोखा और लाइसेंस अन्य शीतलहरों आदि प्रमुख है.

3. एसडीएम की पोस्ट क्या होती है?

≡ एसडीएम जिले का बेहद अहम एक राज्य स्तरीय कर्मचारी होता है, एसडीएम जिसके बहुत सारे काम होते है, एसडीएम मुख्य रूप से अपने जिले के प्रशासन, विकास, न्यायपालिका और इसके रखरखाव के लिए जिम्मेदार है, जो कभी-कभी एक जिला उपखंड के मुख्य अधिकारी को दिया जाता है, यह कर निरक्षक, कलेक्टर मजिस्ट्रेट द्वारा सशक्त है.

4. एसडीएम को हिंदी में क्या कहते हैं?

≡ एसडीएम को हिंदी में उप-प्रभागीय न्यायाधीश तथा अनुमंडलाधिकारी कहते है जिसका प्रमुख काम जिले की भूमि व्यापार पर देखरेख करना होता है.

5. एसडीएम और तहसीलदार में क्या अंतर है?

≡ सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट जिले के सब-डिवीजनों के कानून और व्यवस्था के काम को सम्भालना होता है चूँकि तहसीलदार तहसील के क्षेत्रों में किए गए कार्यों की मैनेज करता है.

→ सरकारी ऑफिसर के बारे में

Leave a Comment